9वाँ विश्व हिंदी सम्मेलन                           विदेश मंत्रालय, भारत सरकार              Ninth World Hindi Conference

      जोहांसबर्ग (दक्षिण अफ्रीका)             Ministry of External Affairs, Government of India        Johannesburg [South Africa]

        22-24 सितम्बर, 2012                                                                        22-24 September, 2012

अभिलेखागार - पंचम विश्व हिंदी सम्मेलन


पांचवां विश्व हिन्दी सम्मेलन

तिथि

 

4-8 अप्रैल 1996

 

स्थान

 

पोर्ट ऑफ स्पेन, ट्रिनिडाड एवं टोबेगो।

 

आयोजक

 

सम्मेलन का आयोजन हिन्दी निधि संस्था द्वारा किया गया। इसके प्रमुख संयोजक हिन्दी निधि के अध्यक्ष श्री चंका सीताराम थे।

 

विषय

 

आप्रवासी भारतीय और हिन्दी

 

प्रतिनिधिमंडल

 

भारत के प्रतिनिधिमंडल के नेता श्री माताप्रसाद, राज्यपाल, अरूणाचल प्रदेश थे।

 

उद्घाटन समारोह

 

 

सम्मेलन का उद्घाटन

 

सम्मेलन का उद्घाटन  ट्रिनिडाड एवं टोबेगो के प्रधानमंत्री श्री वासुदेव पांडे द्वारा किया गया।

 

स्वागत भाषण

 

प्रो. जी. रिचर्ड्स, उपकुलपति, वेस्ट इंडीज विश्वविद्यालय द्वारा

 

अन्य वक्ता

 

श्री माता प्रसाद, नेता, भारतीय प्रतिनिधिमंडल

डॉ. लक्ष्मीमल्ल सिंघवी, ब्रिटेन में भारत के उच्चायुक्त

श्री आदेश नन्नान, ट्रिनिडाड के शिक्षा मंत्री

श्री चंका सीताराम, अध्यक्ष, हिन्दी निधि

 

आभार

 

प्रो. जगन्नाथन

 

सम्मान समारोह

 

उपस्थित गणमान्य व्यक्ति

 

ट्रिनिडाड एवं टोबेगो के प्रधानमंत्री श्री वासुदेव पांडे

श्री राल्फ माराज, विदेश मंत्री,  ट्रिनिडाड एवं टोबेगो

प्रो. जी. रिचर्डस, उपकुलपति, वेस्ट इंडीज विश्वविद्यालय

श्री माता प्रसाद, नेता, भारतीय प्रतिनिधिमंडल

श्री आदेश नन्नान, ट्रिनिडाड के शिक्षा मंत्री

श्री जे. डोडामणि,  ट्रिनिडाड एवं टोबेगो में भारत के उच्चायुक्त

 

समापन समारोह के वक्ता

 

 ट्रिनिडाड एवं टोबेगो की सीनेट के अध्यक्ष माननीय गणेश रामदयाल

श्री माता प्रसाद, नेता, भारतीय प्रतिनिधिमंडल

 

शैक्षिक सत्र

 

मुख्य विषयः

  1. हिन्दी भाषा और साहित्य का विकास
  2. कैरेबियन द्वीपों में हिन्दी की स्थिति
  3. कंप्यूटर युग में हिन्दी की उपादेयता

 

पूर्ण सत्र

 

आप्रवासी भारतीय और संस्कृति

 

समानांतर सत्र

 

सूरीनाम में हिन्दी भाषा और अस्मिता

भाषा अध्ययन का स्वरूप एवं क्षेत्र

आप्रवासी भारतीयों में हिन्दी

भारतीय संस्कृति तथा हिन्दी के भाषा वैज्ञानिक पहलू

मॉरीशस में हिन्दी

भारतीय संस्कृति और हिन्दी

व्याकरण और कोश विज्ञान

तकनीकी हिन्दी

साहित्यिक संगोष्ठी

संपर्क भाषा हिन्दी
राष्ट्रभाषा हिन्दी

हिन्दी का उद्भव अंतर्राष्ट्रीय भाषा के रूप में

हिन्दी भाषा और साहित्यः दो चेहरे

हिन्दीः एक विभिन्न आयामी संस्थान

उन्नीसवीं सदी की हिन्दी का 20वीं सदी में प्रवेशः भावी उत्थान की कथा,

विदेशों में हिन्दी का अध्यापन

ट्रिनिडाड में हिन्दी का अध्यापन

हिन्दी की वाचक और लिखित परंपरा

रेडियोः साहित्य और संस्कृति की पृष्ठभूमि

हिन्दी और हिन्दुत्व का पारस्परिक समन्वय

भाषा का पुनरूत्थानः कहां, कैसे और क्यों

हिन्दी के प्रसार की संभावनाएं और अन्य भाषाओं से सहयोग के क्षितिज

उपनिवेशवाद और विस्तारवाद के प्रतिरोध में समर्थ हिन्दी और उसका संघर्ष

हिन्दीः सामाजिक और राजनीतिक पुनर्जागरण में भूमिका ।

 

अन्य कार्यक्रम

 

 

प्रदर्शनी

 

सी डेक द्वारा कंप्यूटर प्रदर्शनी,

पुस्तक प्रदर्शनी

'हिन्दी के बढ़ते चरण' नाम से हिन्दी भाषा के विकास और इतिहास की चित्रमय झांकी

 

सांस्कृतिक कार्यक्रम

 

रामलीला कला केन्द्र द्वारा 'रामलीला' की प्रस्तुति

कानपुर नौटंकी मंडली की प्रस्तुति

गुलाब थियेटर कंपनी की प्रस्तुति

भारत की कई फीचर फिल्मों की प्रस्तुति

 

सम्मनित विद्वान

 

विदेशी विद्वान                    13

भारतीय                          5

(3 भारतीय और 1 विदेशी विद्वान अनुपस्थित थे।)

 

सरकारी प्रतिनिधिमंडल

 

1. भारत                   17

2. नेपाल                    4

3. मॉरीशस                  4

4. दक्षिण अफ्रीका             2

5. सूरीनाम                 55

6. गुयाना                  15

7.  ट्रिनिडाड एवं टोबेगो        58

 

अन्य विशेषताएं

 

  1. ट्रिनिडाड एवं टोबेगो में क्रीड़ा के क्षेत्र में योगदान के लिए ब्रायन लारा सम्मानित
  2. दूरदर्शन द्वारा सैटेलाइट से सीधा प्रसारण
  3. आयोजन स्थल का नाम 'हिन्दी नगर' रखा गया
  4. ट्रिनिडाड की सरकार द्वारा प्रतिनिधियों को वीजा शुल्क से मुक्त रखा गया।
  5. भारतीय, अफ्रीकी और पाश्चात्य संगीत की मिश्रित प्रस्तुति की गई।

Revised: 08/01/12.